Geeta Jayanti 2023:आज मनाई जा रही है गीता जयंती

Geeta Jayanti 2023: गीता जयंती आज 22 दिसंबर 2023 देश भर में मनाई जा रही है ,बता दे गीता जयंती मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की मोक्षदा एकादशी पर गीता जयंती मनाई जाती है.दर्शकों को बता दे इसी दिनमहाभारत काल मेंकुरुक्षेत्र के मैदान में श्री कृष्ण जी ने अर्जुन कोगीता का ज्ञान दिया था. महाभारत के युद्ध में जब अर्जुन कोश्री कृष्ण जी ने कमजोर होते पाया तो आज के दिन ही गीता के दिन इस ज्ञान से उनका मनोबल पढ़ाया और उनका जीवन का लक्ष्य और उपदेश दिया। श्री कृष्ण जी द्वारा दिए गए उपदेश में गीता के महत्व को बताया गया है जीवन का एक सारांश को समझाया गया है। युद्ध में अर्जुन के द्वाराज्ञान प्राप्त करनेऔर श्री कृष्ण जी के द्वारा गीता का महा ज्ञान अर्जुन कोदिया गया इसे ही गीता का महा ज्ञान कहते हैं।

गीता केउपदेश में जीवन कोजीने धर्म का अनुसरण करने और कर्म के महत्व को समझाया गया है। कहा जाता है कि श्री कृष्ण केगीता के महा ज्ञान से ही अर्जुन के लिए महाभारत का यह युद्ध जीतनासंभव हो पाया था। बिना गीता के ज्ञान काअर्जुन का युद्ध में विजय पाना असंभव थागीता के उपदेशों के जरिए ही अर्जुन नेअपनी समकक्ष कठिन परिस्थितियों का सामना कर युद्ध पर विजय पाई। इसीलिए आज के दिन को गीता जयंती के नाम से जाना जाता है। और आज के दिनगीता के कुछ उपदेश भी दिए जाते हैं। जिन्हेंजीवन मेंसंचालन करना और उनको समझानाएक सरल जीवन को दर्शाता हैगीता में मनुष्य केजीवन के सारांश को बहुत हीसरल तरीके से समझाया गया है.

महाभारत के युद्ध में गीता केमहान उपदेशअर्थात श्रीमद् भागवत गीता का विशेष महत्वको उजागर करता हैकहा जाता है. कि श्री कृष्ण जी के मुख से निकले हर एक शब्दएक संपूर्ण गीता जीवन को दर्शाता है.और जो गीता के उपदेश को समझ कर उसका पालन अपने जीवन में करता है. वह सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति कहलाता है। अर्थात श्रीमद् भागवत गीता जीवन के मोह माया से भी मुक्ति दिलाते हैं। गीता के उपदेश जीवन में मनुष्य को सही राह दिखाने का एक जरिया है। जिससे कि व्यक्ति को अपने जीवन को सरलता से जीने के उपाय मिलता है और वह अपना खुशहाल जीवन तरक्की के साथ व्यतीत करता है.

Geeta jayanti 2023 :शुभ मुहूर्त

bhagavadgita

इस वर्ष गीता जयंती 22 दिसंबर और 23 दिसंबर ,ग्रस्त जो है वह 22 दिसंबर को मोक्षदा एकादशी व्रत रख सकते हैं वहीं अगर बात करें वैष्णव की तो वह 23 दिसंबर को मोक्षदा एकादशी का व्रत रख सकते हैं ,बता दे मोक्षदा एकादशी के दिन ही श्री कृष्ण जी ने कुरुक्षेत्र की रणभूमि मेंअर्जुन को गीता का उपदेश दियाऔर आज के दिन को ही गीता जयंती कहा जाता है। बात करें गीता जयंती के शुभ मुहूर्त कीओ 22 दिसंबर दिन शुक्रवार की सुबह 8:16 से प्रारंभ हो जाएगी और 23 दिसंबर 7 :11 सुबह तक रहेगी, इसी कारण वर्ष इस साल दो दिन गीता जयंती मनाई जाने का योग बन रहा है। जो भी मोक्षदा एकादशी पर भगवान श्री कृष्ण की सच्चे मन से पूजा करता है और पूरे भक्ति भाव से व्रत रखता है। श्री कृष्ण जीका आशीर्वाद उन्हें मिलता है और उनका मोक्ष की भी प्राप्ति होती है।

Read More- ‘मैं अटल हूं’ का ट्रेलर हुआ रिलीज पंकज त्रिपाठी बने पूर्व प्रधानमंत्री 

for more updated news and information – keep following filmi4web.com

Author

  • Poonam

    Poonam is the Senior Content Creator of the company. She having a good experience in content writing. She is graduate from Punjab University. She mainly write for Entertainment, Technology, Finance & Business.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *